मन रे.. तू काहे ना धीर धरे…

हम कितना भी इस मन को समझा लें, मगर वो समझता है क्या? ये मन कभी किसी तरह का धीरज रखता है क्या? फिर उस पर किसी और के कहने-समझाने से तो ये और भी न रुके, बल्कि और भी ज़्यादा फैलें। वैसे भी अब जबकि दुनिया ‘ये दिल मांगे मोर’ और ‘थोड़ा और विश करो’ का मंत्र लेकर बढ़ रही हैं, तब मन को बांधते की सीख देने वाले लोग गुज़रे ज़माने के लगते हैं। लेकिन ये सीख, ये समझाईश अगर रफ़ी साहब की आवाज़ में मिले तो क्या होगा? भई मैं औरों की तो नहीं जानता, लेकिन मैं तो एक जगह बैठकर अपने आप से इस मन की चंचलता पर लग़ाम कसने का वादा ज़रूर करूंगा। फिर चाहे वो वादा इस गीत के ख़त्म होने के साथ ही अपने आप टूट जाए।

chitralekha

महान फिल्मकार केदार शर्मा साल 1964 में फिल्म “चित्रलेखा” लेकर आए थें, जो कि उनकी ही साल 1941 में इसी नाम से आई फिल्म की रीमेक थी। ओरिजनल फिल्म तो बेहद कामयाब रही लेकिन इसके रीमेक को न तो थिएटर में दर्शक मिलें और ना ही अख़बारों में क्रिटिक्स की तारीफ़, लिहाज़ा ये फिल्म कोई असर नहीं छोड़ पाई। जबकि फिल्म में अशोक कुमार, प्रदीप कुमार और मीना कुमारी जैसे बड़े सितारें थें। वो कहते हैं न कि सफलता का दोहराव अक़्सर ख़तरनाक होता है, तो 1964 की फिल्म “चित्रलेखा” के साथ भी यही बात लागू हुई।

meena

एक ख़राब फिल्म होते हुए भी “चित्रलेखा” हिंदी सिनेमा में अपनी मौजूदगी दर्ज़ करा गई और इसकी वजह बना रोशन साहब का अमर संगीत और साहिर लुधियानवी के आला दर्ज़े के गीत। ख़ासकर ‘मन रे तू काहे ना धीर धरे’ तो हमें साहिर की शब्दरचना का लोहा मानने को मजबूर कर देता है।

Sahir - mere geet tumhare- front cover

उर्दू के इस महान शायर ने जिस तरह से हिंदी शब्दों का सटीक इस्तेमाल किया है वो हिंदुस्तानी ज़बान को लेकर उनकी जानकारी और समझ को ज़ाहिर करता है। (कुछ ऐसा ही एहसास मुझे तब हुआ था, जब जावेद साहब ने फिल्म “लगान” में ‘ओ पालनहारे’ और ‘राधा कैसे न जले’ लिखा था।)

Rafi

दोस्तों, रोशन और साहिर के इस प्रयास को असल में ज़िंदा किया रफ़ी साहब ने, क्योंकि उन्होंने जिस लगन, गहराई, तल्लीनता और आत्मीयता से इस गीत को गाया है, वैसे तो दोबारा से फिर कोई नहीं गा पाया है। कई साल पहले अपने एक लाइव कॉन्सर्ट के शुरू होने से पहले किशोर दा ने अपने इस दोस्त यानी रफ़ी साहब को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए ये गीत गाया था। हो सकता है कि श्रद्धांजलि के तौर पर गाए इस गीत को सुनकर लोग इन दोनों महान गायकों के बीच तुलना करने लगे, लेकिन सचमुच में ऐसा करना मुझे बहुत अखरता है क्योंकि ये दोनों ही अपनी-अपनी जगह पर अपना अलग रूतबा रखते हैं। ज़रा किशोर दा की आवाज़ में ये महान गीत सुनिए…

इसी गीत को अब लता मंगेशकर जी की आवाज़ में भी सुनिए। लता जी ने भी ये गीत रफ़ी साहब को ट्रिब्यूट देने के लिए ही गाया था।

दोस्तों, हमारे हिंदी फिल्म संगीत में ऐसे कई गीत हैं जो हमारे सामने जीवन का दर्शन खोलकर रख देते हैं। हो सकता है कि इनमें मेरी और आपकी पसंद के कई और भी अलग-अलग गीत शामिल हों, लेकिन ये तो मानना होगा कि फिल्म “चित्रलेखा” का ये नग़मा अपनी जगह बहुत ऊपर रखता है। बहुत-बहुत शुक़्रिया… प्यार…

Advertisements